कैसे मैंने अपने बच्चे के लिए सही वैक्सीन चुना ?

आज से दो साल पहले जब मैं प्रेग्नेंट थी तो मेरे दिमाग में सिर्फ यही बातें चलती थीं कि मेरा वजन सही है या नहीं, मेरा बच्चा कैसा होगा और हम अच्छे पेरेंट्स बनेंगे या नहीं जैसी चीज़ें। लेकिन, किसी ने भी मुझे वैक्सीनेशन जैसी महत्वपूर्ण चीज़ों के बारे में नहीं बताया। सच पूछें तो मेरा ध्यान भी इस ओर नहीं गया। लेकिन, प्रेगनेंसी के दौरान आपको अपने बच्चे के लिए सही डॉक्टर का चुनाव और टीकाकरण जैसी महत्वपूर्ण बातों के बारे में जानना चाहिए।

ऐसे में, मेरे बच्चे के जन्म के बाद जब डॉक्टर (बाल रोग विशेषज्ञ) ने हमें टीकाकरण की लिस्ट दी तब मुझे यह तक पता नहीं था कि मुझे इसके साथ क्या करना है। लेकिन, मैंने इन टीकाकरण से संबंधित जानकारी के लिए गूगल का सहारा लिया, ताकि हम यह पता कर सकते थे कि मेरे बच्चे के लिए क्या सही है। हालाँकि, मुझे तब तक पता नहीं चला था कि पूरे परिवार और समाज को सुरक्षित रखने के लिए टीका कितना जरूरी है। लेकिन यह एक अलग कहानी थी मेरे लिए।

कैसे मैंने अपने बच्चे के लिए सही वैक्सीन को चुना?

हालाँकि, जैसे ही मेरी बेटी पैदा हुई थी, और उसे पहले राउंड का टीका लगाया गया था तब मुझे एहसास हुआ कि टीके के ब्रांड को चुनना मेरी पहली प्राथमिकता थी। इसके साथ ही जब मैं डॉक्टर से अगली बार मिलने के लिए गयी तब टीके को लेकर मेरे पास बहुत सारे सवाल थे जो मैं जानने के लिए उत्सुक थी। ऐसे में, मेरा जो पहला सवाल था वह यह था कि क्या प्रत्येक अलग ब्रांड को अपने यूएसपी के रूप में किया जा सकता है, और क्यों डॉक्टर ने दूसरे ब्रांड की सिफारिश की। इसके अलावा, मैंने इन टीकों के साइड इफ़ेक्ट और लागत (खर्च) के बारे में जानने की कोशिश की। जैसे कि डॉक्टर ने डीपीटी के टीके के बारे में बताया कि ऐसे टीके बहुत कम चोट पहुंचाते हैं, और आमतौर पर इसके दुष्प्रभाव भी कम देखने को मिलते हैं, जैसे कि बुखार, सूजन या दर्द न के बराबर होता है।

लेकिन, इन सब के बावजूद मैं कुछ भी डिसाइड नहीं कर पा रही थी कि मेरे शिशु के लिए क्या अच्छा है और क्या गलत। लेकिन, मैंने घर जाकर इन वैक्सीन के बारे में गूगल पर काफी रिसर्च  किया, और फिर मैंने तय किया कि मुझे अपने बच्चे को कौन से वैक्सीनेशन लगाने हैं।

उदाहरण के लिए: मैंने डीपीटी वैक्सीन को अपने बच्चे के लिए चुना था, जो पहले इंडिया में नहीं था। हालाँकि, इस टीका के बारे में जो जानकारी मुझे गूगल से मिली उसमें यह था कि यह एक विशेष तरह का टीका है, जो एक आम वैक्सीन से कहीं ज्यादा दर्द होता है और यह भारत में प्रतिबंधित था। लेकिन, जब इसके बारे में मैंने डॉक्टर से पूछताछ कि तब उन्होंने मुझे बताया कि यह वास्तव में प्रतिबंधित नहीं था, बल्कि कुछ समय के लिए यह टीका उपलब्ध नहीं था। तब मुझे इस बात का अहसास हुआ कि दोनों टीकों का प्रभाव एक जैसा होता है, इतना ही नहीं यह टीका आपके बच्चे को कम दर्द देता है।

मुझे कैसे पता चलेगा कि यह मेरे लिए क्या काम करेगा ?

अगर आप इस सवाल का उत्तर जानना चाहते हैं तो इसका सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप अपने बाल रोग विशेषज्ञ से बात करें, जैसा कि मैंने किया था। क्योंकि, यह मैं नहीं बल्कि डॉक्टर बताएँगे कि वह आपके कोमल शिशु को टीके क्यों लगाएंगे और इससे आपके बच्चे को क्या फायदा होगा। क्योंकि, मैंने सही मायने में यह जाना है कि यह मेरे बच्चे को किस हद तक सुरक्षा प्रदान करता है और इसके लिए मैं हमेशा इसका शुक्रगुजार रहूंगी। इसके लिए, बेहतर है कि आप किसी भी गलती को करने से पहले उसके बारे में सारी बातें पता कर लें, ताकि वह आपके बच्चे के लिए सही हो।

loader