कब आप पीरियड्स के समय संबंध बनाने से हो सकती हैं गर्भवती ?

महिलाओं के दिमाग में यह बात बैठ गई है कि जब वह पीरियड्स के समय संबंध बनाती हैं तब वह गर्भवती नहीं हो सकती हैं। लेकिन, ऐसा नहीं है क्योंकि इस समय भी अपने पार्टनर के साथ संबंध बनाने से आप प्रेग्नेंट हो सकती हैं।

कब हो सकता है गर्भवती होने का खतरा ?

आमतौर पर, हर महीने महिलाएं अपने साइकिल के लगभग 14 दिन बाद एग रिलीज करती हैं। ऐसे में अंडा के रिलीज होने से पहले, महिला के शरीर में हार्मोन के साथ-साथ अंडे को निषेचित करने के लिए आपके गर्भाशय को तैयार करता है। ऐसे में, यदि आप इस दौरान संबंध बनाती हैं तब आपके गर्भवती होने के चांसेस बढ़ जाते हैं। हालंकि, इस समय यदि कोई फर्टिलाइजेशन की प्रक्रिया नहीं होती है, तब लगभग 14 दिनों के बाद गर्भाशय के अस्तर को हटा दिया जाता है। जो कि आपका पीरियड्स कहलाता है।

सामान्यतः महिलाओं के पीरियड्स का साइकिल 25 से 35 दिनों का होता है। ओव्यूलेशन, यानि कि जब आपके अंडाशय से अंडा रिलीज होता है। आमतौर पर, यह प्रक्रिया आपके चक्र के बीच में होता है जो कि आपके मेसुरेशन साइकिल का सबसे अधिक फर्टाइल समय होता है। यानि कि इस समय आप बहुत आसानी से गर्भधारण कर सकती हैं।

इस समय होता है सबसे अधिक गर्भवती होने का खतरा

देखा जाए तो सभी महिलाओं के पीरियड्स का चक्र एक समान नहीं होता है, बल्कि सबमें  अलग-अलग होता है। जैसे कि यदि आपके पीरियड्स का चक्र 24 दिन का है और आपको छह से सात दिनों तक ब्लीडिंग हो रही हो, और आपने अपने ब्लीडिंग के अंतिम दिन संबंध बनाया हो। ऐसे में, आपका ओवुलेशन 3 दिन बाद हुआ हो तब आपको पता होना चाहिए कि स्पर्म आपके अंदर तीन से पांच दिनों तक रहता है, जिसमें कि आपके गर्भवती होने के चांसेस सबसे अधिक होते हैं।   

किस समय गर्भवती होने का खतरा कम होता है?

ज्यादातर महिलाओं का चक्र 28- से 32 दिनों का होता है, यदि इनमें से आपका सामान्य पीरियड्स का साइकिल 2 से 8 दिनों का होता है तब आप पाने पीरियड्स के समय गर्भवती नहीं हो सकती हैं।

इस समय सेक्स करने से होगी यह समस्या-

दर्द की समस्या

कुछ महिलाएं पीरियड्स के दौरान, होने वाले दर्द और क्रैम्पस की वजह से संबंध बनाने में सहज महसूस नहीं करती, वहीं कुछ महिलाएं इस बात से सहमत होती हैं, कि उन्हें पीरियड्स के दौरान, सेक्स के बाद दर्द और क्रैम्पस में राहत महसूस होती है। हालाँकि, यह बात पूरी तरह से महिला की सहजता और असहजता के ऊपर निर्भर करता है। वहीं, एक शोध में यह बातें सामने आई हैं कि पीरियड्स के दौरान, गर्भाशय में संकुचन से महिला को दर्द होता है, और अंतरंग संबंध बनाते समय गर्भाशय का संकुचन और तेज हो जाता है और इससे गर्भाशय की तेजी से सफाई हो जाती है और महिला को संबंध बनाने के कुछ समय बाद राहत महसूस होती है।

इंफेक्शन का खतरा

पीरियड्स के दौरान सेक्स को लेकर लोगों का यह मानना है कि इस समय सेक्स करने से संक्रमण का खतरा टल जाता है। हालांकि, कुछ हद तक यह सच भी है, लेकिन इस समय सेक्स करने वाले लोगों को एक दूसरे को संक्रमण (एचआईवी, एसटीआई) होने का उतना ही ख़तरा रहता है, जितना कि सामान्य दिनों में संबंध बनाने से होता है।

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल! एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स आदि की जानकारी के लिए आप अपने सवाल इस ईमेल https://zenparent.in/community पर भेज सकते हैं।

Feature Image Source: www.zachatie.org

loader