जन्म के कितने दिनों बाद शिशु को साबुन लगाया जाना चाहिए ?

शिशु के जन्म लेते ही आपकी जिम्मेदारियां बढ़ जाती हैं कि उसके लिए क्या सही है और क्या गलत खासकर शुरुआत के कुछ महीने और साल। क्योंकि, इस समय शिशु बहुत ही नाजुक होते हैं और उन्हें किसी भी तरह का संक्रमण तुरंत अपनी चपेट में ले लेता है। ऐसे में, अब बात यह आती है कि जन्म के बाद शिशु को कितने दिनों बाद साबुन और शैम्पू का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। क्योंकि, जन्म के तुरंत बाद शिशु की त्वचा काफी नाजुक होती है, जिसके कारण किसी भी साबुन और शैंपू का इस्तेमाल से बचना चाहिए।

कितने दिनों बाद करें साबुन का प्रयोग ?

जन्म के बाद जब तक शिशु का गर्भनाल टूट कर निकल नहीं जाता तब तक आप साबुन का प्रयोग भूल कर भी न करें। क्योंकि, यदि आप उस से पहले साबुन या शैम्पू का इस्तेमाल करती हैं तो उससे संक्रमण होने का खतरा रहता है। हालाँकि, देखा जाए तो शुरुआत के 20-25 दिन नहीं लगाने चाहिए, और 6 महीने तक शिशु के शरीर पर डायरेक्ट प्रयोग न करें बल्कि अपने हांथों में लगा कर तब उसके बॉडी पर लगाएं।

शिशु के सिर में शैम्पू कब करें ?

शिशु को हफ़्ते में एक या दो बार ही शैम्पू करें क्योंकि शैम्पू का अधिक प्रयोग करने से उनके स्किन के लिए अच्छा नहीं हो सकता है। क्योंकि, ज्यादा नहलाने या शैंपू करने पर त्वचा की नमी खो सकती हैं और स्किन के ड्राई होने पर खुजली आदि की समस्या भी हो सकती है। हालाँकि, बच्चों को साबुन से नहलाने से पहले एक बार चिकित्सक से सलाह जरूर लीजिए। और उसके निर्देश पर ही बच्चे के लिए सॉफ्ट साबुन और शैंपू का प्रयोग करें।   

साबुन या शैंपू लगाने से पहले क्या करें ?

जब भी आप शिशु को साबुन या शैम्पू लगाने जा रही हों तो सबसे पहले उसके बॉडी की अच्छे से मालिश करें। ताकि साबुन या शैम्पू लगाने के बाद भी त्वचा की नमी बरक़रार रहे। क्योंकि, इसमें मौजूद केमिकल शिशु के तवचा की नमी को खत्म कर देते हैं।

शिशु को साबुन-शैम्पू लगाने से पहले इन बातों का भी जरूर ध्यान रखें, जो निम्न हैं-

  • शिशु को रोजाना साबुन लगाने की गलती न करें, इसके लिए आप हफ्ते में एक या दो बार से अधिक साबुन का प्रयोग न करें।

  • बच्चे में किसी भी साबुन या शैम्पू का प्रयोग करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें और साथ ही उस पर लिखे गए दिशा-निर्देशों को ध्यान से पढ़ लें।

  • शिशु को नहाने के बाद नमी युक्त क्रीम लगाना न भूलें, इससे शिशु के त्वचा की नमी बरक़रार रहती है।

  • शिशु के शरीर में ज्यादा देर तक साबुन लगा कर न छोड़े और न ही कसकर रगड़ें। साथ ही उसके आँखों को बचा कर साबुन लगाएं।

  • शिशु की त्वचा को गोरा बनाने वाली किसी भी साबुन का इस्तेमाल न करें,क्योंकि  ऐसी क्रीम में स्टेरॉयड और अन्य रसायन (कैमिकल) हो सकते हैं। जो शिशु में इनके इस्तेमाल से उनकी नाजुक त्वचा पर चकत्ते, एलर्जी हो सकती है और यहां तक कि त्वचा जल भी सकती है।

  • शिशु की त्वचा बेहद नाजुक होती है ऐसे में डॉक्टर के द्वारा बताए गए सौम्य साबुन और लोशन का उपयोग करें।

आपकी बिंदु- एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं।

loader