शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर और इसे बढ़ाने के घरेलू तरीके

इंसान के शरीर में हीमोग्लोबिन की उचित मात्रा का होना बहुत जरूरी है, क्योंकि इसके स्तर में कमी होने से बहुत सी बीमारियाँ आपके अंदर घर कर जाती हैं। इसलिए, आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि आपके शरीर में इसकी एक उचित मात्रा बनी रहे। आमतौर पर, खाने में पोषक तत्‍वों और आयरन की कमी के कारण ब्‍लड में हीमोग्‍लोबिन का स्‍तर घटता है। ऐसे में अपने आहार में आयरन और प्रोटीन से भरपूर तत्‍वों को शामिल करके हीमोग्‍लोबिन का स्‍तर बढ़ाया जा सकता है।

शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर कितना होना चाहिए ?

हर चीज़ का एक संतुलन में होना अच्छा माना जाता है, फिर चाहे वह शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा क्यों न हो। क्योंकि, इसका शरीर में न तो कम होना जरूरी है और न ही अधिक। क्योंकि, इसकी दोनों ही परिस्थितियां आपके लिए घातक हो सकती हैं। इसलिए, आपके शरीर में इसका संतुलन बनाए रखना बहुत जरूरी है। हालाँकि, हीमोग्लोबिन के लेवल को ग्राम्स पर डेसिलिटर में मापा जाता है। एक डेसिलिटर में 100 मिलीलीटर होता है। ऐसे में, इसके स्तर की जाँच उम्र और पुरुष महिला के आधार पर किया जाता है, जैसे कि-

– नवजात: 17-22 ग्राम / डीएल

– बच्चे: 11-13 ग्राम / डीएल

– वयस्क पुरुष: 14-18 ग्राम / डीएल

– वयस्क महिलाएं: 12-16 ग्राम / डीएल

– मध्यम आयु के बाद पुरुषों: 12.4-14.9 ग्राम / डीएल

– मध्य आयु के बाद महिलाएं: 11.7-13.8 ग्राम / डीएल

हीमोग्लोबिन बढ़ाने के तरीके-

हालाँकि, अपने आहार में कुछ चीज़ों को शामिल करके हीमोग्लोबिन की कमी को दूर किया जा सकता है, जिनमें निम्न शामिल हैं-

चुकन्दर- यह शरीर में खून की मात्रा को बढ़ाने के लिए जाना जाता है, क्योंकि इसमें इसमें आयरन की अधिकता होती है। इसलिए यह आपके शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं को तेज़ी से बढ़ाने का काम करता है। इसलिए, रोजाना इसका सेवन अच्छा माना जाता है।  

अनार- चुकुन्दर के बाद अनार भी शरीर में ब्लड की मात्रा को तेज़ी से बढ़ाने का काम करता है। साथ ही इसमें आयरन और फाइबर की भरपूर मात्रा होती है जिसका सेवन आप कर सकती हैं।  

हरी पत्तेदार सब्जियां- हीमोग्लोबीन के स्तर को तेज़ी से बढ़ाने के लिए आप अपने आहार में हरी-पत्तेदार सब्जियां खासकर पालक, ब्रोकली, सेम आदि का सेवन करें।

टमाटर- इसमें विटामिन सी, बायोटिन, मोलिब्डेनम और विटामिन के की प्रचूर मात्रा होती है। जो आपके इम्युनिटी को तेज़ी से बढ़ाने का काम करता है और साथ ही इसके सेवन से कभी भी खून की कमी नहीं रहती है।  

आंवला- इसमें कोई शक नहीं है कि इसमें विटामिन सी और आयरन भरपूर होते हैं। जो शरीर में रक्त बढ़ाने का अकम बहुत तेज़ी से करता है।  

हीमोग्लोबिन कम होने के क्या लक्षण हैं ?

शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी के कारण आपको इस तरह के लक्षण महसूस हो सकते हैं-

– चक्कर आना

– हाँथ-पाँव में सूजन

– हमेशा थका-थका महसूस होना

– साँस का फूलना

– दिमाग का स्थिर न होना।

अधिक हीमोग्लोबिन होने के क्या नुकसान हैं ?

शरीर में अधिक मात्रा में हीमोग्लोबिन होने के कारण यह आपके रक्त में ऑक्सीजन युक्त प्रोटीन की अधिकता को दर्शाता है। हीमोग्लोबिन (एचजी या एचजीबी) लाल रक्त कोशिकाओं का मुख्य कम्पोनेंट होता है। हालाँकि, हीमोग्लोबिन काउंट जिसे हीमोग्लोबिन का स्तर भी कहा जाता है जो आपके रक्त में ऑक्सीजन ले जाने की क्षमता को इंगित करता है।

ऐसे में, शरीर में ब्लड के अधिक होने से यह समस्या हो सकती है, जैसे-

– हृदय और फेफड़े संबंधित समस्या

– ह्रदय का रुक जाना

– किडनी का कैंसर

– लीवर कैंसर

– त्वचा के रंग में बदलाव

– मांसपेशियों को नुकसान आदि जैसी समस्या हो सकती है।

ऐसे में, लोगों को समय-समय पर इसकी जाँच कराते रहना चाहिए, ताकि किसी तरह का कोई नुकसान आपके शरीर को न उठाना पड़े।

Feature Image Source: Pinterest

loader