इन 5 घरेलू तरीके से करें जुड़वाँ गर्भावस्था की जाँच

प्रेग्नेंट वुमन के एक ही प्रेगनेंसी के दौरान पैदा होने वाले दो बच्चों को जुड़वा कहा जाता है। आमतौर पर, जुड़वा या तो एक जैसे हो सकते हैं या फिर अलग-अलग प्रकृति के भी हो सकते हैं क्योंकि वे दो अलग अलग अंडो में दो अलग-अलग शुक्राणुओं द्वारा निषेचित (फर्टिलाइजेशन) होते हैं।  लेकिन, शुरूआती तौर पर इस बात का पता लगा पाना बहुत ही मुश्किल है कि गर्भ में पल रहा शिशु जुड़वाँ है या नहीं। क्योंकि, ज्यादातर लोगों को इसकी जानकारी अल्ट्रासाउंड के दौरान मिलती है। लेकिन, आज हम अपने आर्टिकल के जरिए यह बताने जा रहें कि कुछ चीजों पर नज़र रख कर आप ट्विन्स प्रेगनेंसी का पता लगा सकते हैं। जिनमें निम्न शामिल हैं-  

मॉर्निग सिकनेस

जुड़वा बच्चों के साथ गर्भवती महिला के प्रारंभिक लक्षण में मॉर्निग सिकनेस बहुत ज्यादा होती है। पचास प्रतिशत से अधिक महिलाएं अपनी गर्भावस्था के प्रारंभिक चरण में ही मतली और जी मिचलाना का अनुभव शुरू कर देती हैं। महिला जिनके जुड़वा बच्चे होने वाले है अन्य गर्भवती महिलाओं की तुलना में मॉर्निग सिक्नेस का अनुभव अधिक करती है।

तेज़ी से वजन का बढ़ना

जुड़वां गर्भावस्था में वजन सामान्य गर्भावस्था की तुलना में अधिक होता है क्योंकि आपके दो बच्चे, दो प्लासन्टा और अधिक एमनियोटिक द्रव के साथ होते है। एक औसत गर्भावस्था में सामान्य वजन 25 पाउंड होता है जबकि जुड़वां गर्भावस्था में यह 30 से 35 पाउंड के बीच हो सकता हैं।

हमेशा भूख लगना

जुड़वाँ गर्भावस्था के लक्षणों में सबसे बड़ा लक्षण यह है कि आपको हमेशा भूख लगेगी। जुड़वाँ गर्भावस्था में महिला को सामान्य गर्भावस्था की तुलना में अधिक भूख लगती है। यदि आप भी जुड़वाँ बच्चों के साथ गर्भवती हैं तो आपको भी लगातार भूख लगेगी।

पीठ में दर्द

जुड़वाँ गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के पीठ में दर्द की समस्या भी आम बात है, क्योंकि शरीर का भार बहुत अधिक होने की वजह से यह समस्या उत्पन्न होती है।

गर्भाशय का आकार बड़ा होना

जैसा की पहले भी बताया जा चुका है कि जुड़वाँ गर्भावस्था में डिलीवरी समय से पहले होती है तो ऐसे में गर्भाशय का आकार बड़ा होना आम बात है।

हालाँकि, जुड़वां गर्भावस्था को लेकर लोगों के मन में बहुत सी गलत धारणाएं हैं कि, जुड़वा बच्चों को जन्म देना माँ के स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। लेकिन, इस तरह कि बातें गलत हैं, क्योंकि आमतौर पर जुड़वा बच्चों का जन्म माँ के स्वास्थ्य की ओर इशारा करता है। साथ ही जुड़वा बच्चों की मां के स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव भी पड़ता है।

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल!एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स आदि की जानकारी के लिए आप अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं।

loader