बच्चों की देख-रेख में माता-पिता अपनी थकावट से कैसे निपटें…

माता-पिता की थकावट कैसे दूर रहे- पेरेंटिंग रीसोर्सिज़ बाइ ज़ेनपेरेंट

हम सब गुज़रते हैं इस दौर से, जब बिस्तर से निकलने का भी मन नहीं होता, हम बच्चे की छोटी से गलती के लिए भी, अपनी थकान के कारण, उन पर अंजाने में कई बार चिल्ला उठते हैं| कुछ भी हो, माँ बाप का कर्तव्य तो निभाना ही पड़ेगा। ऐसे समय में क्या करें,

1. अपना सुरक्षा कवच बनाएं : कुछ भी ऐसा जो आपको तरोताजा कर सके, शाम को टहलने जायें ,या घर में ही रिफ्रेश होने के लिए कुछ करें। छोटी छोटी चीजे , कुछ अच्छा म्यूजिक, अच्छा बाथ या डायरी लिखना। कुछ भी जिससे बच्चों पर चिल्लाने की नौबत न आये।

2. अपनी स्थिती को पहचाने : यह थकान कहीं पौष्टिक आहार की कमी की वजह से तो नहीं है। क्या आप संतुलित भोजन कर रहे हैं, पर्याप्त पानी पी रहे हैं। अपना मैगनिशियम और विटामिन डी लेवल चेक करें, पर्याप्त प्रोटीन , हरी सब्ज़ियों और धूप का सेवन आपको माइग्रएन और कई बीमारियों से बचा सकता है।

3. ज़रूरत से ज़्यादा काम ना करें : कोई भी तनाव कम करें । जब आपका बच्चा सो रहा है, तो आप भी आराम करें। कैफीन कम पियें, कोई किताब, गाना ,टीवी या नींद लें।

4. प्रैक्टिकल बनें : साफ़ घर, ताज़ा बना खाना , स्वयं का अच्छा मूड और चहकते हुए बच्चे, शायाद सब कुछ एक साथ संभव न हो। इसलिए जितना भी कर सकें, उसपर संतोष ज़ाहिर करें, खुश रहें।

5. एक्टिविटी टाइम : अगर आप टीवी छोड़कर बच्चों के साथ पार्क में दौड़ लगा पा रहीं हैं, घर के काम निबटा रहीं हैं तो आपकी फिटनेस भी अच्छी हो रही है। अपनी पीठ ठोंके, अच्छा कर गयीं ममा।

बच्चों को अपने आप किसी के मदद के पालना मुश्किल काम है, पर धीरे-धीरे सब काम ठीक से हो जाते हैं। समय तो बदलता ही रहता है, ये बच्चे कैसे बड़े हो जायेंगे, पता भी नहीं चलेगा।

 

loader