गर्मी के दिनों में इन तरीकों से पता करें कि शिशु में कहीं पानी की कमी तो नहीं !

शिशु के शरीर में पानी की कमी को समझने का सबसे आसान तरीका | Shishu ke sharir men pani ki kami ko samajhane ka sabse aasan tarika.

गर्मी का पारा जैसे-जैसे बढ़- वैसे लोगों को इसकी चिंता सताने लगी है। हालाँकि, यह  बड़े लोगों तक ही सिमित नहीं है, क्योंकि उससे ज्यादा डर अपने नवजात के लिए है। देखा जाए तो बड़े लोग अपनी तकलीफों को बता तो सकते हैं, लेकिन नवाजत बच्चे को तो पता भी नहीं होता कि उनके लिए क्या सही है और क्या गलत।

हालाँकि, देखा जाए तो नवजात और छोटे बच्चों में पानी की कमी बड़े लोगों की तुलना में ज्यादा पाई जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि वे बड़े बच्चों और वयस्कों की तुलना में ज्यादा जल्दी तरल पदार्थ खोते हैं। ऐसे में अगर जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क न किया जाए, तो पानी की कमी एक गंभीर समस्या बन सकती है।

कैसे पता चलेगा कि शिशु के शरीर में पानी की कमी है ?

शिशु के शरीर में पानी की कमी को देखने या जाँच करने के लिए ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं है, बल्कि आप थोड़ा सा ध्यान देकर इसके लक्षणों को पकड़ सकती हैं। इसलिए निचे कुछ बातें बताई जा रही हैं जिसको ध्यान में रख कर आप यह देख सकती हैं कि आपके शिशु के शरीर में पानी की कमी तो नहीं है, जो निम्न हैं-

  • शिशु का बहुत अधिक मात्रा में यूरिन पास करना, जैसे कि पूरे दिन में 8 से 10 बार। या फिर 12 घंटे में दो बार।

  • शिशु का बार-बार उल्टी करना भी इसका एक संकेत हो सकता है।

  • शिशु का गला, मुंह और होंठ का सूखना, शरीर में पानी का सबसे बड़ा लक्षण है।

  • रोते समय शिशु की आँखों से आँसू न निकलना।

  • पीले रंग की यूरिन पास करना।

  • शिशु के सर का तालु धंसा हुआ होना।

  • शिशु में दस्त की समस्या होने पर भी शरीर में पानी की कमी हो जाती है।

इस तरह के लक्षण नजर आते ही तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें ताकि शिशु का इलाज़ जल्द से जल्द कराया जा सके।

शिशु के शरीर में पानी की कमी को दूर कैसे करें ? 

आप अपने शिशु के शरीर में पानी की कमी को निम्न तरीके से दूर कर सकती हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं-

समय-समय पर स्तनपान कराएं

यदि आपका शिशु स्तनपान पर निर्भर है तो उसे थोड़ी-थोड़ी देर में दूध पिलायें। इसके अलावा, यदि आपका शिशु 6 महीने से बड़ा है और आप उसे बाहरी दूध यानि की फार्मूला मिल्क या ठोस आहार देती हैं, तब आप उसे पानी पिलाएं। लेकिन, यदि शिशु 6 महीने से कम उम्र का है तब आप उसे सिर्फ अपना दूध पिलायें।

ताजे फलों का रस

अगर आपका शिशु ठोस आहार लेना शुरू कर दिया है तब आप उन्हें घर में निकाले हुए ताज़े फलों का रस आदि भी दे सकती हैं, खासकर- संतरा और मौसम्मी का। ध्यान रहे इन जूस में चीनी न मिलाएं, क्योंकि वह शिशु के लिए अच्छा नहीं होगा, इससे शिशु को खांसी हो सकती है। इसके अलावा, आप शिशु को दाल का पानी या फिर सूप भी दे सकती हैं, जो आपके शिशु को न केवल हाइड्रेटेड रखेगा बल्कि इससे एनर्जी भी मिलेगी।

ग्राइप वाटर दें

शिशु के शरीर को ठंडा रखने के लिए आप उसे ग्राइप वाटर भी दे सकती हैं। क्योंकि, इसको पिलाने की सलाह डॉक्टर भी देते हैं। इसके अलावा, आप शिशु को पानी उबाल कर उसे ठंडा कर के समय-समय पर दो- दो चम्मच देती रहें। इससे पानी की कमी नहीं होगी।

ओ.आर.एस. का घोल दें

अगर आपके शिशु को उल्टी दस्त आदि की समस्या हो रही हो तब आप इसे दे सकती हैं, क्योंकि यह शरीर में पानी की कमी नहीं होने देता है और साथ ही एनर्जी बनाए रखता है। हालाँकि, ओ.आर.एस. का घोल अपने शिशु को तभी दें जब उसकी उम्र छह महीने से ज्यादा की हो गई हो। आप ओ.आर.एस. को किसी मेडिकल स्टोर से ले सकती हैं या फिर घर में भी बना कर दे सकती हैं। घर में बनाने के लिए आप एक लीटर फिल्टर किया गया और उबाल कर ठंडा किया गया पानी लें। उसमें आठ छोटी चम्मच (लेवल टी स्पून) चीनी और एक छोटी चम्मच नमक (लेवल टी स्पून) मिलाएं, और जरूरत पड़ने पर शिशु को पिलायें।

पतली मूंग दाल की खिचड़ी दें

पतली मूंग दाल की खिचड़ी शिशु के लिए बेहद फायदेमंद होता है, क्योंकि यह शुरुआत के दिनों में आसानी से पचने वाला आहार होता है। इसके अलावा, आप शिशु को दही और उसमें चावल को मसल कर भी दे सकती हैं।

गर्मी में शिशु को बचाने के लिए इन बातों का भी ध्यान रखें

  • शिशु को धुप में ले जाने से बचें, खासकर दोपहर के समय।

  • शिशु को गर्म हवा से बचा कर रखें, इसलिए उसके कमरे का तापमान उसके शरीर के मुताबिक होना चाहिए, न ज्यादा ठंडा और न ज्यादा गर्मी।

  • शिशु को हल्के सूती के कपड़े पहनाएं, इसके अलावा घर से बाहर निकलते समय सर पर सूती की पतली टोपी जरूर पहनाएं।

  • शिशु को गर्मी में रोजाना नहलाएं, और साथ ही तेल की मालिश ज्यादा न करें अगर करें भी तो नहाने से पहले करें।

आपकी बिंदु- एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं।

loader