इन 4 दवाओं का सेवन बिना डॉक्टर की मदद के न करें

दवाइयों के साइड-इफेक्ट | Dawaiyon ke side-effect

ज्यादातर लोग सर्दी, जुकाम या बुखार में डॉक्टर की सलाह के बिना ही दवाई का प्रयोग करते हैं। लेकिन, इन दवाइयों के साइड-इफेक्ट इतने ख़राब होते हैं कि आपको और भी अधिक बीमार बना देते हैं । हालाँकि, कई बार इसके परिणाम सही सामने आते हैं लेकिन, कई बार गलत डोज के कारण आपका लिवर और किडनी ख़राब हो सकता है। ऐसे में, किसी भी दवाई के साइड इफेक्ट्स जानने के बाद, उसे अपनी मर्जी से न लें। बल्कि इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करें, और उनके दुष्प्रभावों और उसके डोज के बारे में पूछताछ करने के बाद ही लें। इसलिए निचे कुछ दवाओं के नाम दिए जा रहें हैं जिसका प्रयोग डॉक्टर की सलाह पर ही करें, जिनमें निम्न शामिल हैं-

एस्पिरिन (Aspirin)

इस दवाई के सबसे आम दुष्प्रभाव, शरीर पर चकते होना, गैस्ट्रोइंटेस्टिनल अल्सरेशन, पेट में दर्द, हार्ट बर्न, थकावट रहना, क्रैम्पस होना, सिरदर्द, उल्टी, मतली और रक्तस्त्राव के रूप में नजर आ सकते हैं। इसलिए इन दवाओं का सेवन अपनी मर्जी से न करें।

ऐसीटामिनोफेन (acetaminophen)

यह दवा, उल्टी, पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द, खुजली और भूख का मर जाना जैसी समस्याओं का कारण बन सकती है। इसके अलावा, यूरिन की समस्या और पीलिया जैसी घातकी बिमारी भी इस दवाई के कारण उत्पन्न हो सकती है।

पैरासिटामोल (Paracetamol)

ज्यादातर लोग बुखार या बदन दर्द में इस दवाई का प्रयोग करते हैं। लेकिन इस दवा का प्रयोग जरुरत से ज्यादा मात्रा में लेने पर, शरीर पर गंभीर एलर्जिक रिएक्शन जैसे चकते बनना या सूजन हो सकती है। हाइपोटेंशन (रक्तचाप कम होना), यहाँ तक कि गुर्दे की खराबी और किडनी के खराब होने जैसे जोखिम भी हो सकते हैं। ऐसा तब होता है यदि दवाई को लगातार लिया जा रहा हो।  

 

आइबूप्रोफेन (Ibuprofen)

इस दवाई के प्रयोग से, पेट की खराबी, हार्ट बर्न (सीने में जलन), जी मचलना और उल्टी, कब्ज, गैस, घबराहट आदि जैसी समस्याएं पैदा हो जाती हैं। रोजाना इनका सेवन करने से गुर्दे और किडनी खराब हो सकते हैं।

मॉर्डर्न मोना- मदर लाइफस्टाइल! एक दैनिक कॉलम, जहाँ महिलाओं से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।  जैसे- स्वास्थ्य, फैशन, फिटनेस, बच्चों का रख-रखाव, मनोरंजन, सेक्स आदि की जानकारी के लिए आप अपने सवाल इस ईमेल https://zenparent.in/communityपर भेज सकते हैं।

loader