डाइबिटीज होने के सबसे बड़े कारण से अनजान हैं आप !

आज के समय में डायबिटीज एक बेहद आम समस्या बन गई है, जिसका पता शुरुआत में न लगने के कारण यह आपके लिए ख़तरनाक हो सकता है।

डाइबिटीज क्या है ?

डाइबिटीज, जिसे सामान्यतः मधुमेह कहा जाता है जो मेटाबोलिज्म (चयापचय) संबंधी बीमारियों का एक समूह है जिसमें लंबे समय तक उच्च रक्त शर्करा का स्तर होता है। आमतौर पर, दरअसल डायबिटीज लाइफस्टाइल संबंधी या वंशानुगत बीमारी है। जब शरीर में पैंक्रियाज नामक ग्रंथि इंसुलिन बनाना बंद कर देती है तब मधुमेह की समस्या होती है।

डाइबिटीज के आम लक्षण क्या हैं ?

  • बार-बार यूरिन पास होना

  • बहुत अधिक प्यास लगना

  • भूख में वृद्धि होना

  • बहुत अधिक थकान महसूस होना

  • अचानक से वजन का कम होना

  • कटे या घाव का जल्दी न भरना आदि इसके मुख्य लक्षण हैं।

इससे होने वाली समस्याएं क्या हैं ?

  • हृदय रोग

  • स्ट्रोक

  • क्रोनिक किडनी की विफलता

  • पैर में अल्सर की समस्या

  • आंखों को नुकसान आदि शामिल है।

डाइबिटीज होने का सबसे बड़ा कारण क्या है ?

यह एक बहुत बड़ा सवाल है क्योंकि, कुछ लोगों को लगता है कि जब आप बहुत अधिक मात्रा में मीठे का सेवन या फिर घर में किसी सदस्य को मधुमेह की समस्या है तब उत्पन्न होती है। लेकिन, ऐसा नहीं है क्योंकि आपके लाइफस्टाइल में कुछ चीज़ें ऐसी हैं जिसके शामिल होने के मधुमेह जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है, जिनमें निम्न शामिल हैं-

टाइप 1 डाइबिटीज होने के कारण

हलांकि, एक शोध में यह बात सामने आई है कि टाइप 1 मधुमेह जेनेटिक (आनुवंशिकी) और अज्ञात कारकों के कारण होता है जो कि रोग को शुरूआती तौर पर ट्रिगर करते हैं। आमतौर पर, टाइप 1 डाइबिटीज बचपन में शुरू होते हैं जिसके कारण इसे किशोरावस्था का मधुमेह भी कहते हैं। हालाँकि, यह एक

ऑटोइम्यून स्थिति है जिसका मतलब है कि यह हमारे शरीर में एंटीबॉडी अग्न्याशय पर हमला करता है, और यही कारण है कि यह इंसुलिन का उत्पादन करने में सक्षम नहीं होता है।

टाइप 2 डाइबिटीज होने के कारण

टाइप 2 डायबिटीज आनुवंशिकी और ख़राब जीवनशैली के कारण होता है। यह एक सबसे सामान्य प्रकार का मधुमेह है। हालाँकि, कुछ मामलों में पैंक्रियास कुछ मात्रा में इंसुलिन का उत्पादन करता है लेकिन, यह हमारे बॉडी के लिए पर्याप्त नहीं होता है। देखा जाए तो लोग बहुत अधिक मात्रा में मीठे पेय पदार्थ का सेवन करते हैं, जैसे कि सोडा, एनर्जी ड्रिंक, फलों का जूस आदि के रूप में। इसलिए, इन चीज़ों का सेवन अधिक मात्रा में न किया जाए।

क्या बहुत अधिक मीठे का सेवन डाइबिटीज को बढ़ावा देता है ?

ऐसा नहीं है कि बहुत अधिक मीठे के सेवन से मधुमेह होता है, लेकिन किसी भी चीज़ का सेवन एक निश्चित मात्रा में किया जाना चाहिए। क्योंकि, मधुमेह होने का सबसे बड़ा कारण यह है कि आपका पैंक्रियाज उतने मात्रा में इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है जितना कि आपके बॉडी को जरूरत होती है, ऐसे में इस तरह की स्थिति उत्पन्न होती है। जिसके कारण, आपका शरीर रक्त शर्करा के स्तर का प्रबंधन करने में सक्षम नहीं हो पाता। है

किन फलों का सेवन मधुमेह के लिए अच्छा माना जाता है ?

मधुमेह रोगियों के लिए अनार, अंगूर, सेब, पपीता और अमरूद का सेवन अच्छा माना जाता है।

Feature Image Source: www.trainer.ae

loader