सीजेरियन डिलीवरी के बाद महिलाओं को नहीं करने चाहिये ये 9 काम

हर मां के लिए बच्‍चे का जन्‍म सुखद अनुभवों में से एक होता है। लेकिन बच्‍चे के जन्‍म की प्रक्रिया इतनी जटिल होती है कि मां को अपार कष्‍टों का सामना करना पड़ता है। बच्‍चे के गर्भ में आने से लेकर उसके जन्‍म लेने तक की नौ माह की अवधि में मां के शरीर में कई भावनात्‍मक, शारीरिक और मानसिक परिवर्तन आते हैं। बच्‍चों के जन्‍म लेने की प्रक्रिया दो प्रकार की होती है- प्राकृतिक प्रसव या सीजेरियन प्रसव।  इन दिनों की तंग जीवनशैली के कारण महिलाओं को अक्‍सर सीजेरियन कर दिया जाता है क्‍योंकि उनका शरीर सामान्‍य प्रसव के लिए सहयोग नहीं कर पाता है।  ऑपरेशन से बच्‍चे का जन्‍म होने के बाद मां के शरीर को विशेष आराम और देखभाल की जरूरत होती है। अगर किसी स्‍त्री का प्रसव अप्राकृतिक रूप से किया गया है तो उसे निम्‍न बातों का विशेष ध्‍यान रखना चाहिए।

1. पेट पर जोर डालने वाले काम न करें: सीजेरियन प्रसव के बाद महिला को ऐसे काम कतई नहीं करना चाहिए, जिससे पेट पर जोर पडे, अन्‍यथा टांकों के फूलने या सूजने का डर रहता है। कई बार टांके टूट भी जाते हैं और भयानक दर्द होती है।

2. ज्‍यादा वजन न उठाना: ऑपरेशन से प्रसव के बाद भारी वजन उठाना मना होता है। शुरूआत के दो महीने में बिल्‍कुल भी ऐसा नहीं करना चाहिए। अन्‍यथा ब्‍लीडिंग हो सकती है।

3. डिहाईड्रेशन से बचें: नई मां को ऐसे पोषक तत्‍व व पेय पदार्थ लेने चाहिए ताकि उसे डिहाईड्रेशन न होने पाएं। इस अवस्‍था में कब्‍ज की समस्‍या भी होती है जिसका निदान पानी को पर्याप्‍त मात्रा में पीने और फाइबर युक्‍त आहार का सेवन करने से संभव है।

4. सीढियों से दूरी रखें: ऑपरेशन के बाद से सीढियों पर चढ़ना शुरू न कर दें। इससे पेट पर जोर पड़ता है और महिला को काफी थकान भी हो जाती है। कई बार सीढि़यों को चढ़ने पर ब्‍लीडिंग भी हो जाती है।
5. सेक्‍स करने से बचें: सीजेरियन प्रसव होने के आधे महीने तक कम से कम सेक्‍स न करें। अन्‍यथा गर्भाशय में समस्‍या हो सकती है और समस्‍या खड़ी हो सकती है।

6. खांसी व सर्दी-जुकाम से बचें: सीजेरियन प्रसव के बाद सर्दी-जुकाम से अपना बचाव करें और संक्रमण से बचकर रहें। खांसी आदि भी जोर आने पर नियंत्रण रखें और हल्‍के से खांसे ताकि टांकों पर जोर न पडेे।

7. तेल मसाला न खाएं ऑपरेशन से प्रसव होने के बाद तली भूनी चीजों से दूरी बनाकर रखें और उनका सेवन कतई न करें। इससे रिकवरी होने में समस्‍या होती है।

8. देर तक न नहाएं: सीजेरियन प्रसव होने के बाद देर तक न नहाएं। इससे संक्रमण हो सकता है। थोड़ी देर तक नहाएं या वाइप्‍स का इस्‍तेमाल करें।

9. बुखार से बचें: ऐसे स्‍थानों पर न जाएं जहां कोई बीमार हो या संक्रमण फैला हो। बुखार महसूस होने पर डॉक्‍टर से सम्‍पर्क करें। घाव आदि होने पर शीघ्र उपचार करें।

ये लेख बोल्ड स्काई   से लिए गया है

loader