सिजेरियन के बाद पहली बार पीरियड्स, इन 6 बातों को जरूर ध्यान रखें महिलाएं

माँ बनना किसी भी महिला के लिए सबसे सुखद पलों में से एक होता है, फिर चाहे वो नॉर्मल हो या सी-सेक्शन। लेकिन, कुछ बातें ऐसी हैं जिसका ध्यान महिलाओं को प्रेगनेंसी के बाद रखना पड़ता है, और वह है अपने पीरियड्स का। वो भी यदि आपका बच्चा सी-सेक्शन से पैदा हुआ है, तब आपको इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखना पड़ता है कि आपका पीरियड्स कब शुरू होगा।

आमतौर पर, इस दौरान आप के मन में सिर्फ एक ही सवाल उठता है कि सी-सेक्शन के बाद पहला पीरियड्स हल्के तौर पर, हैवी ब्लीडिंग या फिर बहुत दर्द के साथ होगा। लेकिन, इन सारे सवालों का जवाब आपको निचे बताये जा रहे हैं जो निम्न हैं-

क्या सी-सेक्शन के बाद पीरियड्स लेट से आएगा ?

बिल्कुल नहीं, क्योंकि हर महिला के मन में इस तरह के सवाल आते हैं कि क्या सी-सेक्शन के बाद पीरियड्स थोड़े समय के बाद आता है। लेकिन ऐसा नहीं है, अगर ऐसा होता है भी है तो वह हार्मोनल चेंज के कारण होता है। इसलिए आपके पीरियड्स का समय पर आना या न आना सिजेरियन डिलीवरी से प्रभावित नहीं होता है।

क्या स्तनपान भी पीरियड्स को प्रभावित करता है ?

हाँ, शिशु के जन्म के बाद आपका पीरियड्स का साइकिल आपके ब्रेस्टफीडिंग पर भी निर्भर करता है। वह भी इस बात अपर कि आप शिशु को स्तनपान करा रही हैं या नहीं, और अगर करवा रही हैं, तो कितनी मात्रा में करवा रही हैं। क्योंकि, अगर आप दिन-रात शिशु को स्तनपान करा रही हैं, तो हो सकता है कि आपका पीरियड्स शुरू होने में छह महीने से एक साल लग जाएँ।

क्या रक्तस्राव भी हो सकता है ?

हाँ, इस समय आपको हल्के तौर पर रक्तस्राव की समस्या हो सकती है, जो कि बहुत ही आम बात है। खासकर, डिलीवरी के 5 से 6 हफ्ते बाद आपको हल्का ब्लडी डिस्चार्ज दिख सकता है। जो कि आपको सीजेरियन और नॉर्मल दोनों ही डिलीवरी के बाद दिख सकते हैं। इसलिए, इस तरह की समस्या काफी आम है। लेकिन, इस बात का भी ध्यान रखें कि यह आपका पीरियड्स नहीं होता है, बल्कि यह आपके बॉडी के अंदर पड़े ख़राब रक्त होते हैं। क्योंकि, यह मटमैले और हल्के रंगो की तरह होता है जो एक से दो दिनों तक रहता है।

क्या सिजेरियन डिलीवरी के बाद बहुत अधिक ब्लीडिंग होती है ?

जरूरी नहीं है कि इस तरह कि समस्या हर महिलाओं एक जैसी हों बल्कि कुछ महिलाओं को सी-सेक्शन के बाद हैवी ब्लीडिंग होती है। यदि आपमें इस तरह की समस्या हो तो इस बात का ध्यान रखें की बहुत अधिक मात्रा में न हो, यदि हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

क्या मेरा पीरियड्स अनियमित हो सकता है ?

हाँ, कुछ महिलाओं का प्रसव के बाद मासिक धर्म की अनियमितता देखने को मिल सकती है। हालाँकि, इस तरह की समस्या बहुत ही समान है, इसमें चिंता  कोई बात नहीं। वहीँ कुछ महिलाओं में प्रसव के बाद पीरियड्स बिल्कुल सामान्य रूप से चलता है। यानि कि 25 से 28 दिनों का चक्र होता है। आमतौर देखा जाए तो, पीरियड्स की अनियमितता कई चीज़ों पर निर्भर करती हैं, जैसे कि- तनाव, वजनका घटना या बढ़ना और थायराइड जैसी चीज़ें प्रभावित कर सकती हैं।

क्या इस दौरान गर्भ ठहरने की आशंका है?

इस दौरान प्रेगनेंट होने की पूरी संभवाना रहती है। अक्सर ऐसा होता है कि औरतों को पीरियड नहीं आता है और छह माह बाद उनको पता चलता है कि वो प्रेगनेंट हैं। इसलिए इस समय सेक्स करते वक्त ध्यान रखें कि गर्भ ठहर भी सकता है।

इन सब के अलावा, आपको पीरियड्स के दौरान बहुत अधिक दर्द के साथ अधिक मात्रा में ब्लीडिंग की समस्या हो, जैसे कि हर घंटे पैड बदलना हो तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि, हो सकता है कि आपको किसी प्रकार इंफेक्शन हो गया हो। पीरियड अगर सात दिन से ज्यादा है और ब्लड क्लॉट ज्यादा बडे़ हैं तो इन बातों को नज़रअंदाज़ न करें।

Feature Image Source: momjunction.com

loader