बच्चे को जबड़न खिलाना पड़ सकता है महँगा !

Published On  July 15, 2016 By

अक्सर, पैरेंट्स अपने बच्चों को लाड़-प्यार में ज्यादा खाना खिलाते हैं, क्योंकि वह सोाचते हैं कि मेरा बच्चा जितना खा ले उतना सही है। लेकिन, जो पेरेंट्स अपने बच्चे को ठूंस-ठूंसकर कर खाना खिलाते हैं, तो प्लीज सावधान हो जाएँ क्योंकि, यह आपके बच्चे के सेहत के लिए सही नहीं है। हालाँकि, एक शोध में यह बातें सामने आई हैं कि, ऐसा करने से बच्चे का वजन बढ़ सकता है, और स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

ऐसे में यह ध्यान रखना बेहद जरूरी है कि अपने बच्चे को जबरदस्ती खाने के लिए जोर न करें, हालाँकि कुछ बिंदुओं को ध्यान में रखना बहुत जरूरी है, जो निम्न हैं-

  • अपने बच्चे को जबरदस्ती खाने के लिए न कहें, उसे जितना इक्षा हो उतना ही खाने दें। क्योंकि, बच्चे का खाना भूख  से तय नहीं होता है।  
  • बच्चे में ज्यादा खाने से मोटापे का खतरा बढ़ सकता है, ऐसे में उसे स-ठूंसकर कर खाना खिलाने से बचें।
  • बच्चे को ज्यादा खिलने से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं, जो छोटे से उम्र के लिए खतरनाक हो सकता है।
  • अध्ययन के मुताबिक, ‘यदि बच्चों को प्लेट में बचा एक-एक दाना खाने पर जोर दिया जाता है तो वे अपने शरीर के संकेतों को समझना बंद कर देते हैं और तब तक खाते हैं जब तक उनके माता-पिता खुश न हो जाएं.’ ।
  • कुछ बच्चों में अधिक खाने की वजह से उसका बॉडी मास इंडेक्स अन्य की तुलना में बढ़ जाता है, जो स्वास्थय के हिसाब से सही नहीं है।
  • अध्ययन में यह बात भी सामने आई है कि उन बच्चों के बीएमआई में ज्यादा वृद्धि होती है, जिनमें  उनके भोजन खाने के स्वभाव को प्रभावित करता है। वे कितना खाते हैं यह भूख के हिसाब से तय नहीं होता, बल्कि खाने को देखकर तथा उसके गंध से तय होता है।”  

ऐसे में पेरेंट्स भूल कर भी अपने बच्चों को जबरदस्ती खाना न खिलाएं, क्योंकि ऐसा करने से उसके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। जो इस छोटे से जान के लिए अच्छा नहीं है।

 

आपकी बिंदु- एक दैनिक कॉलम है, जहाँ आपको हर मर्ज़ की दवा मिल सकती है। इसके लिए आप घरेलू नुस्खे, हेल्दी फ़ूड से लेकर तमाम सभी चीज़ों की जानकारियों और अपने सवाल इस ईमेल aapkihindieditor@zenparent.in पर भेज सकते हैं।