बच्चे के वजन को बढ़ाने के लिए पेरेंट्स भूलकर भी न करें यह 5 गलतियाँ

हमारे देश में पेरेंट्स की अपने बच्चों से सिर्फ एक ही शिकायत होती है और वह दुबले होने की। इसके लिए पेरेंट्स डॉक्टर के चक्कर लगा-लगा कर थक चुके होते हैं और डॉक्टर से सिर्फ एक ही बात करते हैं कि उनके बच्चे कुछ खाते नहीं है। हालांकि, अपने बच्चे को खिलाने और मोटा करने के चक्कर में पेरेंट्स ऐसी गलतियाँ कर बैठते हैं कि बच्चे को खाने से नफरत हो जाती है। ऐसे में पेरेंट्स अपने बच्चों के वेट को बढ़ाने के लिए कुछ पुराने नुस्खे को आजमाते हैं जो कि हमेशा सही नहीं होता है, जिनमें निम्न शामिल हैं-

घी का जरूरत से ज्यादा प्रयोग करना

हमारी एक आंटी थी वह अपने बच्चे को मोटा करने के लिए उसको सारी चीजें घी में ही बना कर देती थीं। यहाँ तक कि अपने दुबले बच्चे को अंडे भी घी में फ्राई कर के देती थीं। आपको जानकर हैरानी होगी कि उनके बच्चे अंडे से नफरत करने लगे। ऐसा इसलिए, क्योंकि घी को पचा पाना इस उम्र के बच्चों के लिए थोड़ा मुश्किल है। ऐसे में, यदि आप अपने बच्चे को हर खाने में घी डालेंगे तो उससे उसका पाचन क्रिया थोड़ा निचे चला जायगा। जिससे कि आपके बच्चे को एक लंबे समय तक कोई भूख नहीं लगेगी। और साथ ही वह खाना खाने से भी दूर भागेगा।

आहार में बहुत अधिक कार्ब्स को शामिल करना

पहले के लोगों का यह मानना था कि बच्चे के वजन को बढ़ाने के लिए अधिक मात्रा में कार्ब्स और स्टार्च को उनके आहार में शामिल करना। जो कि सरासर गलत है, क्योंकि बहुत अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट और स्टार्च का सेवन बच्चों में कब्ज, पेट में सूजन के साथ दर्द की समस्या उत्पन्न हो सकती है। इसलिए अपने बच्चे के लिए हमेशा सोच-समझ कर मील प्लान करें। क्योंकि बच्चे खासतौर से इस तरह के खाद्य पदार्थों को अधिक पसंद नहीं करते हैं, जैसे कि- आलू, घी, बटर, ब्रेड और चावल के रूप में।

तली-भुनी चीजों को शामिल करना

कुछ पेरेंट्स का यह मानना है कि यदि उनके बच्चे तली-भुनी चीजें खाएंगे तब वह मोटे हो जायेंगे। जो कि बिल्कुल गलत है। क्योंकि, बहुत अधिक मात्रा में तली-पकी चीजें खाने से उसे पेट संबंधी अनेकों समस्याएं हो सकती हैं।  

ज्यादा खाने को लेकर जबरदस्ती करना

जरूरी नहीं है कि आपने जितना खाना प्लेट में डाला है बच्चे उसे पूरा खा लें। हो सकता है कि उनका पेट भरा हो या फिर खाने का मन न हो। ऐसे में माता-पिता अक्सर बच्चों से प्लेट साफ करने की बात करते हैं। जो कि बच्चों में वजन बढ़ने की बजाय अन्य हेल्थ प्रॉब्लम हो जाती हैं। इसलिए बच्चों को ज्यादा खाने के लिए फ़ोर्स न करें।

फ़ास्ट फ़ूड से बच्चे का वजन बढ़ना

कुछ पेरेंट्स का यह मानना है (जरूरी नहीं कि आप ऐसा सोचती हैं) कि जो बच्चे फ़ास्ट फ़ूड खाते हैं वह जल्दी मोटे होते हैं। अगर कोई पेरेंट्स ऐसा सोचते हैं तो प्लीज़ इसे तुरंत बंद कर दें। क्योंकि, फ़ास्ट फ़ूड में संतृप्त वसा, सोडियम की अधिक मात्रा और अधिक दिनों तक प्रिज़र्व करके रखा हुआ होना, ये सारी चीजें आपके बच्चे के विकास और नर्वस सिस्टम पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।

हालाँकि, यह सच है कि आपके बच्चे ज्यादा देर तक भूखे नहीं रह सकते हैं। उन्हें जब भूख लगेगी वह खुद आकर आप से खाना मांगेंगे। बस आप अपने बच्चे में यह देखें कि वह कब और कितनी देर तक एनरजेटिक रहते हैं। डॉक्टर का भी यह मानना है कि बच्चों के दुबलेपन पर न जाएँ बल्कि यह देखें कि आपका बच्चा कितना हेल्दी है। क्योंकि, जो बच्चे अधिक मोटे होते हैं वह ज्यादा हेल्दी नहीं होते हैं।

This article was published in association with Teddyy’s Diapers.

Translated by: Supriya

loader