बच्चे को कैसे सिखायें कई भाषा

सभी पेरेंट्स अपने बच्चे को बाइलिंग्वल  बनाना चाहते हैँ। इसके लिए आप उन पर बहुत पैसें खर्च करते हैं ,कि वह एक साथ कई भाषाओं को सिख सकें। अगर आप अपने बच्चे को बिलिंगुअल बनाना चाहते हैं ,तो इसके लिए आपको भी उनकी थोड़ी मदद करने की जरुरत है। आप एक साथ अपने बच्चे को सारे भाषाओं को नहीं सीखा सकते ,लेकिन उनको आसानी से धीरे -धीरे  सीखा सकते हैं। हम आपको कुछ खास और जरुरी टिप्स बता रहे हैं ,जो आपके बच्चे को बिलिंगुअल बनाने में सहायक होगा –

फैमिली एग्रीमेन्ट:-अगर आप बच्चे को बिलिंगुअल बनाना चाह रहें है ,तो फैमिली एग्रीमेन्ट बहुत ही जरुरी ही। क्योंकि घर का माहौल बच्चे को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। आप अपने परिवार के सदस्यों के साथ उसी भाषा को बोलें जो आप अपने बच्चे को सिखाना चाह रहें हैं।

एन्थूसिास्टिक बने :-अगर आप अपने बच्चे को कई भाषाओं को सिखाना चाहते है ,तो आपको उत्साही और यथार्थवादी बनना होगा। आप अपने फैमिली में जिस भाषा का इस्तेमाल करते हैं ,उसके अलवा  भी  आप कई भाषाओं को सीखा सकते है। शोध के अनुसार बच्चों को सुबह के समय इस्तेमाल किये गये भाषा 30 %ज्यादा समझ में आता है। 

प्लान बनायें  –किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले प्लान बनाना जरुरी होता है। आप अपने बच्चे को पहले कौन सी भाषा सीखना चाहते है ,और वो किस भाषा को आसानी सिख सकता है। उसका आप प्लान बनाये और उसी के अनुसार उसको आप पढ़ायें और  साथ -साथ प्रैक्टिल भी करायें।

आवश्यक सामग्री को दें –बच्चों को कई भाषाओं से परिचित कराने के लिए आप उससे सम्बंधित पढ़ने और सिखने वाली बुक्स ,म्यूजिक कैसेट्स ,मूवी जैसी जरुरी सामानों को खरीद कर दें । जिससे उनको कुछ ज्ञान प्राप्त होगा ,यह उनके लिए मददगार होगा।

धैर्य रखें:-अगर आप अपने बच्चे को बिलिंगुअल बना रहें है,तो आपको धैर्य रखने की जरुरत है। इस समय आपको पेरेंटिंग कर पाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। यह प्रक्रिया कम समय और लम्बे समय का  हो सकता  है ,क्योंकि आपका बच्चा एक नई भाषा सिख रहा है। वह शायद उसके लिए थोड़ा मुश्किल हो ,इसलिए आपको खुद में धैर्य रखने की ज्यादा ही जरुरत है।

loader