बच्चे को डायपर पहनाने का महत्व 

बच्चे जब पेशाब करते हैं चाहे वो खेल रहें हो या सो रहें ऐसे वक़्त में वो बहुत चिड़चिड़े हो जाते हैं। क्योंकि पेशाब करने के बाद बच्चे को बॉडी और कपड़ा दोनों गीला हो जाता है। जिससे बच्चे बहुत रोते एवं चिल्लाने लगते हैं।आज के बदलते परिवेश में हर कोई अपने बच्चे को डायपर का प्रयोग करें। पहले लोग बच्चे को कपड़े के लंगोट पहनाते थे। आज के समय हर किसी को कैसी भी परिस्थिति हो ,बच्चे को डायपर जरूर पहनाएँ। जिससे बच्चे को कम्फ़र्टेबल हो चाहे वो किसी के गोद में खेल रहा हो या सो रहा हो। यहाँ हम आपको डायपर इस्तेमाल के बारे में कुछ सुझाव दे रहें हैं। इसकी मदद से आपको डायपर प्रयोग में काफी आसानी होगी –

 

बच्चे को सोते वक़्त आराम मिले:– बच्चे को अगर आप कपड़े के लंगोट पहनाती है ,तो बच्चा जब पेशाब कर करता है। ऐसे में गीला जल्दी हो जाता है चाहे उसका लंगोट हो ,या बिस्तर। लेकिन अगर माँ बच्चे को डायपर को इस्तेमाल करें तो बच्चा अगर 4 -5 बार भी पेशाब करे।  तो उसका डायपर पेशाब को सोख लेता है और बच्चे के नींद में खलल नहीं पड़ती है। और बच्चा चैन की नींद में सोता भी है।

 

संक्रमण से बचायें  :– डायपर से बच्चे को जीवाणु और संक्रमण से बचाया जा सकता है। क्योंकि इसमें धुलने की कोई जरूरत नहीं होती है कि बच्चा बार -बार पेशाब करे तो उसका डायपर बदला जाये। क्योंकि इसमें लम्बे समय तक पेशाब सोखने की शक्ति होती है।

 

काम काजी माँ के लिए हो आसान :-घर में काम करना हो ,और बच्चा बार – बार पेशाब करता है ,तो माँ को कपड़े के लंगोट को समय -समय पर बदलना पड़ता है। ऐसे माँ अगर बच्चे को डायपर पहनाती है तो बार -बार डाइपर बदलने से फुरसत मिल जाती हैं और अपना घरेलू कार्य आसानी से निपटा भी लेती है साथ -साथ बच्चे को भी कोई परेशानी नहीं होता है।

 

रिश्तेदार के यहाँ जब जाना हो :– महिला अपने छोटे से बच्चे के साथ जब रिश्तेदार के यहाँ जाती है। अगर बच्चा पेशाब कर देता है तो उसे बहुत शर्म महसूस होती है।जिससे महिला का कपड़ा एवं बच्चे का कपड़ा दोनों का पेशाब से ख़राब हो जाता है। ऐसे में माँ अगर बच्चे को मेडिकेटेड डायपर पहना कर रिश्तेदारों के यहाँ जाये तो बच्चा और माँ दोनों को बहुत आराम मिलेगा।

 

बार -बार धोने से मिले राहत :- बच्चे को डायपर पहनाने से बार -बार कपड़े धोने से फुरसत मिल जाती है। क्योंकि डायपर में सोखने की शक्ति ज़्यादा होती है। बच्चा पेशाब करता है,तो पेशाब बाहर लीक नहीं होता और दूसरा बिस्तर या बच्चे का कपडा ख़राब होने से बच जाता है। बच्चे को अगर कपड़े का लँगोट पहनाती हैं तो उसकी खास सफाई करनी होती है ताकि बच्चे को कोई संक्रमण न हो सके। इसके लिए महिला को बच्चे को डायपर अवश्य पहनाना चाहिए ताकि बच्चे को संक्रमण से बचाया जा सके।

 

loader