अपने बेबी के लिए परफेक्ट बाथ

सुबह जैसे ही आँख खुली, सूरज की पहली किरणें खिड़की से होते हुए मेरे आँखों को छू गयी। एक पल के लिए तो ऐसा लगा कि मानो उन किरणों को अपनी आँखों में कैद कर लूँ। सच कहूँ तो यह बिल्कुल ही दिल को शांति देने वाली सुबह थी, और उसकी खुशबू अदरक और नींबू की तरह थी, जो शरीर को अंदर तक तरोताज़ा कर रही थी। वहीं दूसरी तरफ खिड़की के बाहर लगे फूलों पर बारिश की बूंदे मोतियों के जैसे चमक रहे थे। ये सारी चीजें सुबह की ताज़गी को मानों दुगुनी कर गयी हो। इन प्राकृतिक एहसास के साथ अपने 1 साल के बच्चे के साथ उठना चेहरे पर चार चाँद लगा देता है।

जैसे ही आपका मॉर्निंग रूटीन खत्म होता है, वैसे ही आप अपने बच्चे के पास पहुँचती हैं। आपने यह नोटिस किया होगा कि बच्चे सामान्य की तुलना में उस वक़्त अधिक सॉफ्ट होते हैं, और उसके सोते हुए मुस्कान और भी कोमल होते हैं। साथ ही जब आप गहरी साँस लेती हैं, तो बच्चे के शरीर से आ रही हिमालया बेबी लोशन की खुशबू जो आपने कल रात लगाया था वह और भी खास होता है। यह आपके लिए बेहद खूबसूरत और खास पल होता है, जिसे आप अलग और कुछ नया करना चाहती हैं। ऐसे में अपने बच्चे के लिए लिए परफेक्ट बाथ की जरूरत होती है।

आम तौर पर, जब आप बच्चे को नहलाती हैं तो, फर्श को सुखाने के लिए रबर की चटाई का उपयोग करती हैं, लेकिन आज टब पहले से नरम पृथ्वी पर टिकी हुई होती है। इसके बाद उस टब में सही तापमान के अनुसार पानी डालती हैं, हालाँकि आप उसके तापमान को अपने हाँथ डाल कर देख सकती हैं। उसके बाद उसमें हिमालया नॉरिशिंग बेबी शॉप को डालें, लेकिन ध्यान रहे जब तक उसमें बबल न हो बच्चे को न डालें, क्योंकि बच्चे उस बबल के साथ बहुत खुश होते हैं। लेकिन, बच्चे को नहलाते समय उनका ध्यान रखें और उन्हें पकड़े रहें ताकि बच्चे बाथ का मज़ा ले सकें।  

हालाँकि, सूरजमुखी तेल, शहद, अरंडी का तेल और दूध इन सारे की ​​अच्छाई कुछ ही हफ्तों में दिखाई देने लगती है। क्योंकि, इसके उपयोग से बच्चे की त्वचा में एक अलग तरह की चमक देखने को मिलती है, जो किसी चमत्कार से कम नहीं है। इस मौसम में भी बच्चे की त्वचा प्राकृतिक रूप से मुलायम और कोमल होती है, उसे देखकर ऐसा लगता है जैसे मानो किसी मार्श मैलो को चॉकलेट सॉस में डुबो दिया गया हो। इन सब के साथ जब बच्चे नहाते हैं तो, सूरज की रोशनी उसके बालों के माध्यम से इंद्रधनुष का निर्माण करता है। उसकी रोशनी में बच्चे की मुस्कान देखते बनती है।

सूरज की इन रौशनी में शिशु का चेहरा नहाने के बाद खिला-खिला सा महसूस होता है, इस मासूमियत को चार चाँद लगाने के लिए आप अपने हथेली पर हिमालय बेबी क्रीम को लें और बच्चे को थपकी देते हुए लगाएं। ऐसा करने से बच्चे को ताज़गी का एहसास होता है।

ठीक बीस मिनट के बाद बच्चे की आँखें खुद ब खुद बंद होने लगती हैं। हालाँकि, ऐसे में आप थोड़ी देर के लिए घास पर बैठ कर दिन की गर्मी का आनंद उठा सकते हैं। घास पर बैठे-बैठे आप आज के इस खूबसूरत स्नान के बारे में सोचते हैं, कि कितना खास था आज का पल जो नम पृथ्वी की खुशबू के साथ-साथ प्रकृति के सभी तत्वों को अपने बच्चे को पोषण देने के लिए पर्याप्त रूप में मौजूद है।

 

 

Open in app
loader