अक्सर लोग भूल कर बैठते हैं माइग्रेन और सिर दर्द के इस सच से !

हर किसी को माइग्रेन और सिर दर्द के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं होता है, कभी-कभी लोग सिर दर्द को माइग्रेन समझ बैठते हैं। ऐसे में, आज हम आपको सबसे पहले यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि इन दोनों में क्या अंतर है।

सिर दर्द

सिर दर्द की समस्या से आज हर कोई परेशान है, लेकिन कुछ लोगों में इसकी समस्या काफी गंभीर रूप से उत्पन्न होती है। हालाँकि, हर लोगों में सिर दर्द की समस्या अलग तरीके और लक्षणों के साथ उत्पन्न हो सकती है। जैसे कि किसी व्यक्ति में सिर के एक या एक से अधिक हिस्सों में दर्द होता है। तो किसी को आधे माथे के साथ ही गर्दन के पिछले भाग में तेज़ दर्द का एहसास होता है। आमतौर पर, सिर दर्द के कई कारण होते हैं जो किसी भी व्यक्ति में हो सकता है।  

लेकिन, इससे पहले सिर दर्द के प्रकार के बारे में जानना बहुत जरूरी है। क्योंकि, डॉक्टर इन्हीं आधार पर आपका उपचार करते हैं।

सिरदर्द के प्रकार

वैसे तो सिरदर्द के कई प्रकार हैं लेकिन कुछ ऐसे हैं जो लोगों में  सामन्यतः देखे जाते हैं, जो निम्न हैं-

तनाव के कारण सिर दर्द

यह सिर में होने वाले दर्द का एक सबसे बड़ा कारण माना जाता है, जो हर उम्र के लोगों में समान रूप से होता है।आमतौर पर यह दर्द मांसपेशियों में सिकुड़न के कारण होता है, जो एक समय में उत्पन्न होने के साथ कुछ ही देर में खत्म हो जाती है। इस तरह के सिर दर्द की समस्या उनलोगों में अधिक देखी जाती है जो बहुत अधिक स्ट्रेस लेते हैं। लेकिन इस तरह के सिरदर्द खुद ब खुद ठीक हो जाते हैं।

माइग्रेन के कारण सिर दर्द

यह स्थिति तीव्र सिरदर्द के साथ उत्पन्न होती है। लेकिन, कुछ लोगों में यह सिर दर्द अलग-अलग होता है। आमतौर पर देखा जाए तब माइग्रेन सिर के आधे हिस्से में और बहुत तेज होने वाला दर्द होता है। कुछ लोगों में सिर दर्द के साथ-साथ इसके लक्षण भी नजर आ सकते हैं जैसे कि- उल्टी होना, जी मिचलाना, रोशनी के प्रति संवेदनशीलता, धुंधली दृष्टि, सुस्ती, बुखार और ठंड लगने जैसी समस्या देखी जा सकती है। वहीं एक बच्चे में इस तरह की समस्या उत्पन्न होने पर वह पीला दिख सकता है, इसके अलावा, बुखार और पेट खराब की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

साइनस के कारण सिर दर्द

साइनस सिरदर्द भी बहुत तेज़ और लगातार होता है, जिसे आप पाने माथे, नाक और गले के आस-पास महसूस कर सकते हैं। इस दौरान व्यक्ति की आँखों या उसके आस-पास के हिस्सों में तेज़ जलन होती है। इसके कारण आपको, नाक से पानी का निकलना, बुखार, ठंड लगने के साथ-साथ चेहरे पर सूजन आदि की समस्या भी हो सकती है।

हार्मोन के कारण सिर दर्द

यह दर्द महिलाओं में हार्मोन में बदलाव के कारण उत्पन्न होती है, खासकर पीरियड्स, प्रेगनेंसी और मेनोपॉज़ के दौरान इस तरह की समस्या देखने को मिल सकती है। कुछ महिलाओं में इस तरह की परेशानी बर्थ कंट्रोल पिल लेने के कारण उत्पन्न हो सकती है।

क्या माइग्रेन और सिर दर्द एक जैसे होते हैं ?

माइग्रेन और सिर दर्द मुख्य रूप से समान होते हैं, कभी-कभार थोड़े बहुत अंतर के साथ देखे जा सकते हैं। खासकर यह दर्द आपको सिर के एक हिस्से या दोनों हिस्सों में हो सकता है।

माइग्रेन और सिरदर्द के बीच समानताएं और अंतर

अगर दोनों के बीच कोई समानताएं हैं तो वह है दर्द का, जो धीरे-धीरे या अचानक उत्पन्न होते हैं।

इसके लक्षण-

  • मतली या उल्टी की समस्या

  • धुंधली दृष्टि

  • गंध के प्रति संवेदनशीलता

  • सिरदर्द की परेशानियां

माइग्रेन और सिरदर्द को बढ़ावा देने वाले कारक-

  • रेड वाइन, चॉकलेट, पीनट बटर, डेयरी उत्पाद और खट्टे फल

  • पीरियड्स या प्रेगनेंसी के दौरान हार्मोन में बदलाव के कारण

  • मौसम में बदलाव के कारण

  • नींद की कमी के कारण

माइग्रेन और सिरदर्द के लिए क्या घरेलू उपचार हैं ?

सिर की मालिश

माइग्रेन की समस्या से राहत देने के लिए मालिश एक बेहतर उपाय है। इसके लिए आप अपने सिर की हल्के गुनगुने तेल के साथ आधे घंटे के लिए मालिश करें। यह तनाव को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा, आप पेपरमिंट ऑयल के साथ अपने सिर की मालिश करें इससे भी आपको काफी आराम मिलेगा।

कोल्ड कम्प्रेस

सिरदर्द से राहत पाने के लिए आप बर्फ की क्यूब्स लें और उन्हें एक तौलिए में लपेटें और 10 से 15 मिनट के लिए अपने माथे पर रखें, उसके बाद आप 10 मिनट के लिए गर्म पानी में तौलिए को डुबोकर हॉट कम्प्रेस करें। इससे आपको काफी आराम मिलेगा।

चीनी की सेंक

जब भी आपको असहनीय दर्द हो रहा हो तब आप एक गर्म तवे पर कुछ बूँद चीनी के डालें। जब उससे धुंआ निकलने लगे तब आप उस धुएं को अपनी नाक से अंदर की ओर खींचे। यह धुंआ अंदर की नसों को खोलने में काफी मदद करता है जिससे कि आपको सिर-दर्द की समस्या से राहत मिलती है।

Feature Image Source: Livestrong.com

loader