आपके सभी टीकाकरण से जुड़े सवालों के जवाब यहां जानें

Mom consulting doctor about vaccination

इस विषय में डॉ महेश सुलक्षन के साथ बातचीत की गई है, जो पुणे में एक प्रख्यात बाल रोग विशेषज्ञ हैं। जो आज आपको आपके जीवन में कुछ बचत करने के बारे में बात करेंगे, खासकर बच्चों के टीकाकरण से संबंधित जानकारी के बारे में। क्योंकि, जब आप जन्म के बाद अपने शिशु को वैक्सीन लगाते हैं तब इसके लिए यह बेहद जरूरी है कि आप उस शॉट को लेने से पहले सारी जानकारी प्राप्त कर लें ताकि आगे आपको किसी तरह की कोई मुश्किल न हो।  

 

आप इतने सालों से एक बाल रोग विशेषज्ञ रहे हैं। लेकिन, वह चीज क्या है जिसे आप चाहते हैं कि कोई भी माता-पिता आपके क्लिनिक में आने से पहले उन्हें इसके बारे में पता हो?

मैं चाहता हूं कि माता-पिता को टीकाकरण की मूलभूत जानकारी के बारे में पता होना चाहिए। जिसमें कि न केवल बीमारी शामिल हो, बल्कि शिशु को मिलने वाले हर तरह के सुरक्षा और प्रभाव के बारे में मालूम हो।

 

पहली बार अपने बच्चों को टीकाकरण लगाने वाले माता-पिता को आप क्या सलाह देंगे ?

नए माता-पिता को मेरी यही सलाह होगी कि वह सबसे पहले यह पता करें कि जिस जगह वह अपने बच्चे को टीका लगवा रही हों। वहां सभी टीकाकरण उपलब्ध हैं या नहीं अगर हैं तो वह इससे संबंधित बीमारियों को कैसे रोकते हैं।

 

क्या बच्चों के लिए टीकाकरण महत्वपूर्ण है? वे कैसे मदद करते हैं?

टीकाकरण रोगों को रोकने के लिए बहुत ही प्रभावी उपकरण है। जो शिशु में प्रतिरक्षा प्रणाली को विकसित करने में सहायता करता है और साथ ही मृत्यु दर और विकृति से बचाने का भी काम करता है।

 

महत्वपूर्ण टीकाकरण क्या हैं जिनके बारे में माता-पिता को पता होना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि बच्चे को आसानी से मिल सकें ?

माँ को बीसीजी, ट्रिपल एंटीजन, पोलियो, न्यूमोकोकल, मेननोगोकल मेनिन्जाइटिस और कई और ऐसे टीके हैं जिसके बारे में उन्हें पता होना चाहिए।

 

क्या दर्द रहित टीका एक मिथक है? वह कैसे प्रभावी हैं, और किस प्रकार के डीपीटी वैक्सीन को एक माता-पिता को चुनना चाहिए?

दर्द रहित टीकाकरण वास्तव में एक मिथक है। खासकर दो तरह के टीके हैं जो हमेशा से एक विषय रहा है, जिसमें डीपीटी - डीटीडब्ल्यूपी (होल सेल) बनाम डीटीएपी (ऐसेल्लुलर) टीके हैं। हालाँकि, डीटीएपी एक कम दर्द वाला टीका है और किसी भी अन्य वैक्सीन की तरह इसमें भी बुखार और दर्द होता है, लेकिन यह एक एसेल्यूलर वैक्सीन है, जिसके कारण शिशु में गंभीर दुष्प्रभावों की संभावना दूसरे की तुलना में कम होती है। सामान्यतः यह पूरे सेल टीका के समान संरक्षण प्रदान करता है। लेकिन, इस इंजेक्शन में दर्द, बुखार और लाली जैसे कम साइड इफेक्ट देखने को मिलते हैं। इसलिए माता-पिता को हमेशा सुरक्षित विकल्प चुनना चाहिए यदि यह टीके आपको आसानी से उपलब्ध हों रहें तब।

 

पोस्ट टीकाकरण के लिए आप माता-पिता को अपनी ओर से क्या सलाह देंगे ?

पोस्ट टीकाकरण हमेशा डॉक्टर की निगरानी में की जानी चाहिए। ताकि उसका प्रभाव / साइड इफेक्ट न हो इसलिए टीकाकरण के कम से कम 20 मिनट बाद डॉक्टर की निगरानी में बच्चे को रखें।

 

यह साक्षात्कार, टीकाओं पर सनोफी पाश्चर की एक शैक्षिक पहल का हिस्सा है। इन साक्षात्कार में व्यक्त विचार केवल डॉक्टर के हैं।

loader