बेबी मसाज ऑयल


स्वास्थ्य के लिए तेल की मालिश


यह क्या करता है-

रोजाना हिमालया तेल से मालिश करने से, बच्चे की वृद्धि और विकास के सुधार में मदद मिलती है। बच्चों की मालिश के लिए जैतुन का तेल और विंटर चेरी को क्लीनिकली मान्यता भी दी गई है। हालाँकि, यह बहुत ही लाइट और नॉन-स्टेनिंग होता है जिसे, नहाने से पहले मालिश के तौर पर और नहाने के बाद मॉइस्चराइजिंग के रूप में भी लगा सकते हैं।

मुख्य सामग्री :

  • जैतून का तेल, विटामिन ई से भरपूर होता है, जो बच्चों में पोषण के साथ-साथ त्वचा को कोमलता और सुरक्षा प्रदान करता है। इसमें बच्चों को खुश करने वाला और रोगाणुरोधी गुण होते हैं, जो बच्चे के त्वचा को स्वस्थ्य चमकदार बनाता है। साथ ही यह आपके बच्चे के नाखून को मजबूत मजबूत बनाता है।

  • विंटर चेरी बच्चे की त्वचा को टोन कर उसे चमकदार बनाता है।


पैक का आकार

50 मिलीलीटर, 100 मिलीलीटर, 200 मिलीलीटर और 500 मिलीलीटर

इस्तेमाल के लिए निर्देश :

बच्चे के शरीर को नहाने से आधे घंटे पहले, बेबी मसाज ऑयल से मालिश करें।

और जानें :

बाल रोग , मेडिकल कॉलेज कोलकाता, के एक अध्ययन में यह बात सामने आई हैं कि, हिमालया बेबी मसाज ऑयल के जरिए बच्चे में होने वाले सूखी त्वचा (क्सेरोसिस), जो कि बहुत ही सामान है, उसका इलाज किया जा सकता है।

इसके अलावा एक परिणाम में यह भी दिखाया गया है कि बच्चे के त्वचा में सूखेपन को खत्म करके यह त्वचा को कोमल और चमकदार बनाता है। हालाँकि, इस मसाज के दौरान यह भी देखा गया है कि बेबी आयल मसाज तेजी से अवशोषित होता है, जिससे कि बच्चे की त्वचा प्राकृतिक रूप से स्वस्थ और चमकदार होती है।

जेंटल बेबी बाथ


बच्चे के नहाने के समय को बनाएं प्राकृतिक!


यह क्या करता है

हिमालया बेबी बाथ अपने प्राकृतिक निर्माण के कारण बहुत ही नया और अलग है, जो चिकपी की अच्छाई, फेनुग्रीक और ग्रीन ग्राम आपके नवजात शिशु की त्वचा को बहुत ही अच्छे से साफ़ करता है।

मुख्य सामग्री

  • चिकपी-यह बच्चे की नाजुक त्वचा को अच्छे से साफ करता है। काबुली चने में एंटीऑक्सीडेंट के गुण मौजूद होते हैं, जो त्वचा रोगों और रूसी के उपचार में सहायक होता है।
  • फेनुग्रीक- इसका परंपरागत रूप से आयुर्वेदिक दवाओं में इस्तेमाल किया जाता है, साथ ही इसमें मॉइस्चराइजर प्रचुर मात्रा में पाई जाती है। जो बच्चे की सूखी त्वचा के लिए विशेष रूप से फायदेमंद होता है।
  • हरा चना- यह बच्चे की त्वचा को नरम और कोमल बनाता है। यह बिना किसी समस्या के गंदगी को हटाता है।


पैक का आकार:

100 मिलीग्राम और 200 मिलीग्राम

इस्तेमाल के लिए निर्देश:

एक गीला स्पंज या कोमल हाथों से बेबी के त्वचा पर लगाएं। यदि जरूरत हो तो इस प्रक्रिया को दुबारा दोहराएँ।

नर्शिंग बेबी सोप


बच्चे की संवेदनशील त्वचा के लिए कोमल पोषण


यह क्या करता है

हिमालया नर्शिंग बेबी सोप का निर्माण हर्बल तरीके से किया गया है, जो विशेष रूप से बच्चे के संवेदनशील त्वचा के लिए बनाया गया है। यह शहद, सूरजमुखी, अरंडी के तेल और दूध से बनाया गया है, जो बच्चे की त्वचा को प्राकृतिक रूप से मॉइस्चराइज कर खुजली और सूजन से राहत दिलाता है। मुख्य रूप से इसका प्रयोग मानसून के मौसम में किया जाना चाहिए। साथ ही यह साबुन कृत्रिम रंगों से मुक्त है ।

मुख्य सामग्री:

  • सूरजमुखी तेल-इसमें विटामिन ए, सी , डी और ई से भरपूर होता है, जो बच्चे की त्वचा में नमी को बनाए रखने में मदद करता है।
  • हनी- यह एक प्रभावी मॉइस्चराइजिंग एजेंट है, जो बच्चे की त्वचा को पोषण देता है ।
  • केस्टर ऑयल- यह खुजली, चकत्ते और त्वचा की सूजन को कम करने में मदद करता है ।
  • दूध- दूध बच्चे की त्वचा को मॉइस्चराइज कर पोषण देता है।


इस्तेमाल के लिए निर्देश:

बेबी मसाज ऑइल से बच्चे के शरीर को नहाने से एक घंटा पहले मालिश करें।

और अधिक जानें :

बच्चे के शरीर और चेहरे को हल्का गीला करें, उसके बाद नर्शिंग बेबी सोप को लगाएं। ऐसा करने से साबुन का झाग अच्छे से बनता है।

बेबी लोशन


एक प्राकृतिक मॉइस्चराइजर


यह क्या करता है:

हिमालया बेबी लोशन बच्चे की त्वचा को नरम और कोमल रखने में मदद करता है, और साथ ही संक्रमण से दूर रखता है। बेबी लोशन में प्राकृतिक तत्व मौजूद होते हैं, जो बच्चे की नाजुक त्वचा में दिन भर नमी बनाए रखता है। इसके अलावा, हमारा बेबी लोशन चिकित्सकीय रूप से भी मान्य है, जो नवजात शिशुओं के लिए काफी कोमल साबित हुआ है।

मुख्य सामग्री:

  • जैतून का तेल, विटामिन ई से भरपूर होता है, जो बच्चों में पोषण प्रदान कर उसे मुलायम बनाए रखता है। इसमें सूथिंग के गुण होते हैं जो, बच्चे की त्वचा को स्वस्थ और नरम रखने में मदद करता है।

  • बादाम का तेल एक उत्कृष्ट त्वचा सॉफ्टनर है, जो बच्चे की त्वचा को मॉइस्चराइज रखता है।

  • लिकोरिस बच्चे की त्वचा को मुलायम और उसकी रक्षा करता है।


पैक का आकार:

40 मिलीलीटर, 100 मिलीलीटर, 200 मिलीलीटर और 400 मिलीलीटर


इस्तेमाल के लिए निर्देश:

नहाने के बाद बच्चे के शरीर पर इसे लगाएं।

इसके बारे में और जानें:

एक चिकित्स्कीय ​​अध्ययन में हिमालया बेबी लोशन की सुरक्षा और प्रभावकारिता का मूल्यांकन किया है। इस अध्ययन का दौरान, अपोलो हॉस्पिटल चेन्नई में बाल विभाग में 20 बच्चों पर लागू किया गया था।

इस अध्ययन की अवधि 30 दिनों की थी। जिसके परिणाम स्वरुप यह सामने आया कि यह लोशन बच्चों के त्वचा की कोमलता को बनाए रखता है। इसके अलावा इसमें मॉइस्चराइजिंग का प्रभाव भी देखा गया। इससे पेरेंट्स को हिमालया के प्रोडक्ट पर विश्वास बढ़ना शुरू हो गया।