ठंडी में बच्चों की आंखों की देखभाल

सर्दियां आ चुकी हैं। बच्चों को कई तरह की परेशानियां इस मौसम में आती हैं । सर्दी से बचने के लिए कई तरीके भी अपनाए जाते हैं। त्वचा की देखभाल पर लोगों का ध्यान ज्यादा रहता है, लेकिन ध्यान रखें कि ठंड सिर्फ त्वचा को ही नुकसान नहीं पहुंचाती है। आंखों को भी इससे दिक्कत हो सकती है। सर्द हवा और सूखी हवा से आंखों को कैसे बचाएं। डाॅ जीवी दिवाकर, बैंग्लोर की ये टिप्स जिससे बच्चों की आंखों को सर्दी में सुरक्षित रखा जा सकता है।

1. बच्चा अगर कहे कि उसे साफ नहीं दिख रहा है। दूरी चीजों को देखने में उसे समस्या हो रही है। इसके साथ वो अगर आंखों में दर्द और सिर दर्द की शिकायत करे तो तुरंत डाॅक्टर के पास ले जाएं।

2. घर में अगर हीटर चल रहा होता है तो ऐसे में आंखों में ड्रायनेस की समस्या हो सकती है। इससे ध्यान रखें कि इस दौरान आंखों की नमी बनी रहे।

3. बच्चे की आंख से अगर पानी आ रहा है या आंखें लाल हो चुकी हैं। ऐसे में संक्रमण की आशंका बढ़ जाती है। इस मौसम में संक्रमण होना आम है। डाॅक्टर को दिखाएं, इसे आई ड्राॅप से ठीक किया जा सकता है।

4. बच्चों की आंखों में अंतर होना आम बात है। इसे भेंगापन या तिरछी नजर कहा जा सकता है। इसको जल्द ही दिखा लेना चाहिए ताकि आंखों का इलाज़ और व्यायाम कराया जा सके।

5. नवजात बच्चों की संपूर्ण आई चेकअप जरूर करा लें। कई बार नवजात में छोटे या बडे़ आई बाॅल होता है। जो ठीक हो सकता है।

6. आंखों को अल्ट्रावायलेट किरणों से इस मौसम में भी बचाना जरूरी है। बर्फीली जगह के लिए सनग्लास होना अनिवार्य है। इस बात का ध्यान रखें कि सनग्लास बहुत डार्क न हो।

7. इस मौसम में बार – बार आंखों को न छुएं। हांथों को धुलकर ही आंख को छुएं। इस बात का ध्यान रखें कि समय-समय पर हाथ धुल दें और छोटे बच्चे को याद दिलाते रहें।

8. इस मौसम में उन चीजों को खाने में शामिल करें। जो आंखों के लिए फायदेमंद है जैसे ठंडे या मीठे पानी वाली मछली, लहसुन, प्याज, हरी सब्जी, अंडे, वर्जिन आॅलिव आॅयल और फल में अंगूर, ब्लूबेरी के साथ मेवे शामिल करें।

Featured image 

 

 

loader